GPRS full form tracker architecture module network matlab in Hindi

GPRS full form tracker architecture module network matlab in Hindi

GPRS नाम तो सुना ही होगा। चलिए समझते हैं GPRS का फुल फॉर्म क्या है, इसका आर्किटेक्चर, मॉडल, नेटवर्क और इसका प्रयोग।

Table of Contents

GPRS टेक्नोलॉजी

GPRS एक तरह का टेक्नोलॉजी है। सामान्य पैकेट रेडियो सेवा (जीपीआरएस) मोबाइल संचार (जीएसएम) दर असल 2g और 3g मोबाइल फ़ोन सेलुलर संचार नेटवर्क की वैश्विक प्रणाली पर एक स्वंतंत्र पैकेट उन्मुख मोबाइल डेटा मानक तकनीक है। जीपीआरएस को यूरोपीय दूरसंचार मानक संस्थान (ईटीएसआई) द्वारा सर्व प्रथम सीडीपीडी और आई-मोड पैकेट-स्विच मोबाइल फ़ोन सेलुलर तकनीक के जवाब में प्रस्थापित किया गया था। अब इसे 3rd जनरेशन पार्टनरशिप प्रोजेक्ट (3GPP) द्वारा निर्धारित किया गया है।

सामान्य पैकेट रेडियो सिस्टम को "जीपीआरएस" के रूप में भी जाना जाता है। ये इंटरनेट एक्सेस की दुनिया में एक तीसरी पीढ़ी का बढ़ाव है। जीपीआरएस को दर असल "जीएसएम-आईपी" के रूप में भी जाना जाता है जो एक ग्लोबल-सिस्टम मोबाइल कम्युनिकेशंस इंटरनेट प्रोटोकॉल है। और वो इसलिए क्योंकि यह प्रणाली के उपयोगकर्ताओं को ऑनलाइन इंटरनेट पर रखता है, वॉयस कॉल करने की सुबिधा प्रदान देता है।और संभव होता है इंटरनेट का उपयोग से । यहां तक ​​कि टाइम-डिवीजन मल्टीपल एक्सेस (TDMA) उपयोगकर्ता इस प्रणाली से लाभ उठाते हैं क्योंकि यह पैकेट रेडियो एक्सेस प्रदान करता है। जीपीआरएस नेटवर्क ऑपरेटरों को मल जूल वॉयस और डेटा उपयोग के लिए इंटरनेट प्रोटोकॉल (आईपी) आधारित कोर आर्किटेक्चर को निष्पादित करने की सुविधा देता है। ये 3जी सेवाओं के लिए उपयोग और विस्तारित होते रहते हैं।

जीपीआरएस वायर्ड कनेक्शनों को भी अधिगृहित करता है, क्योंकि इस प्रणाली ने इंटरनेट जैसे पैकेट डेटा नेटवर्क तक पहुंच को सरल बना दिया है। पैकेट रेडियो सिद्धांत जीपीआरएस द्वारा जीएसएम मोबाइल स्टेशनों और बाहरी पैकेट डेटा नेटवर्क के बीच एक संरचना तरीके से उपयोगकर्ता डेटा पैकेटों को परिवहन करने के लिए नियोजित किया जाता है। इन पैकेटों को जीपीआरएस मोबाइल स्टेशनों से पैकेट स्विच किए गए नेटवर्क पर सीधे भेजा जा सकता है। GPRS के वर्तमान संस्करणों में, इंटरनेट प्रोटोकॉल (IP) पर आधारित नेटवर्क जैसे वैश्विक इंटरनेट या निजी / कॉर्पोरेट इंट्रानेट और X.25 नेटवर्क समर्थित हैं।

GPRS का फुल फॉर्म

GPRS का फुल फॉर्म है जनरल पैकेट रेडियो सिस्टम (General Packet Radio System)। जनरल पैकेट रेडियो सर्विसेज (जीपीआरएस) एक पैकेट तकनीक से लेस बेतार संचार प्रणाली है जो 56 के 114 केबीपीएस से डेटा दरों और मोबाइल फोन और कंप्यूटर उपयोगकर्ताओं के लिए इंटरनेट से लगातार कनेक्शन मुहैया करती है। उच्च डेटा दर उपयोगकर्ताओं को वीडियो कॉन्फ्रेंस में अंस लेने और मल्टीमीडिया वेब साइटों और इसी तरह के उपयोगों के साथ मोबाइल हैंडहेल्ड डिवाइसों के साथ-साथ नोटबुक कंप्यूटरों का उपयोग करने की सुविधा प्रदान देती है। जीपीआरएस ग्लोबल सिस्टम फॉर मोबाइल (जीएसएम) संचार विचारधारा और तकनीक पर आधारित है। और हाँ मौजूदा सेवाओं जैसे सर्किट-स्विच्ड सेल्युलर फोन कनेक्शन और शॉर्ट मैसेज सर्विस (एसएमएस) को पूरण करता है।

GPRS के मालिक कौन है

GPRS निर्देशों को यूरोपीय दूरसंचार मानक संस्थान (ETSI), अमेरिकन नेशनल स्टैंडर्ड इंस्टीट्यूट (ANSI) के यूरोपीय समान्तर द्वारा लिखा जाता है। ETSI ka full form hei The European Telecommunication Standards Institute. ETSI ko GPRS का मालिक कहना गलत नहीं होगा।

GPRS का लाभ

GPRS से पहले डायल उप कनेक्शन हुआ करता था। जो की बहुत ही कम डाटा ट्रांसफर करने में सफल रहता था। और कनेक्शन फ्रेक्वेंटली टूटते थे। किन्तु GPRS तकनीक आने से ये झंझट ख़तम होगया। निरंतर इंटरनेट की सुविधा प्राप्त हुआ। ऑपरेटरों को अपने उपकरण बदलने की जरूरत नहीं है; इसके बजाय, जीपीआरएस को मौजूदा बुनियादी ढांचे के शीर्ष पर जोड़ा जाता है।GPRS 3G सिस्टम EDGE और WCDMA के लिए पैकेट डेटा कोर नेटवर्क रहा है।

GPRS सिस्टम

पैकेट-स्विच की गई तकनीक के स्वरुप, GPRS इंटरनेट प्रोटोकॉल (IP) और X.25 का सहयोग करता है ये तकनीक। और ये तकनीक पैकेट-स्विच किए गए मानक में आज भी और भविस्य में भी वायरलाइन संचार में उपयोग किए जायेंगे। जैसे, आज निर्धारित की गई इंटरनेट पर इस्तेमाल की जाने वाली कोई भी सेवा जीपीआरएस से अधिक इस्तेमाल की जा सकती है। क्योंकि जीपीआरएस इंटरनेट के समान प्रोटोकॉल का उपयोग करता है, इसलिए नेटवर्क को इंटरनेट के सबसेट के रूप में समझा जा सकता है। जीपीआरएस उपकरणों के साथ साहटकिनक के रूप में इस्तेमाल होते हैं।

Related Articles( Also Read )

Radio ka avishkar kisne kiya, prakar, mahatva, labh aur hani ke bare mein jankari

अभ्रक क्या है What is Abhrak (Mica) in Hindi?

जीपीआरएस एक मॉड्यूलेशन तकनीक पर आधारित है जिसे गॉसियन न्यूनतम-शिफ्ट की (जीएमएसके) कहा जाता है। यह वह जगह है जहाँ बिटस्ट्रीम से संबंधित आयताकार दालों को फ़िल्टर्ड किया जाता है, एक गाऊसी आकार के आवेग प्रतिक्रिया फ़िल्टर का उपयोग करके, कम साइडेलोब का उत्पादन करने से । यह मॉड्यूलेशन तकनीक आठ-चरण-शिफ्ट कीइंग (8 PSK) मॉड्यूलेशन के रूप में एयर इंटरफेस में उच्च दर की अनुमति नहीं देती है, जिसे EDGE सिस्टम में पेश किया जा रहा है। एक जीएसएम या टीडीएमए नेटवर्क पर जीपीआरएस को सक्षम करने के लिए दो मुख्य मॉड्यूल, गेटवे जीपीआरएस सर्विस नोड (जीजीएसएन) और सर्विंग जीपीआरएस सर्विस नोड (एसजीएसएन) की आवश्यकता होती है। GGSN GPRS नेटवर्क और सार्वजनिक डेटा नेटवर्क जैसे IP और X.25 के बीच एक प्रवेश द्वार के रूप में फंक्शन करता है। इसका लाभ कुछ इस प्रकार से है के वे रोमिंग को सक्षम करने के लिए अन्य जीपीआरएस नेटवर्क से भी जुड़ते हैं। एसजीएसएन अपने सेवा क्षेत्र के सभी उपयोगकर्ताओं को पैकेट रूटिंग प्रदान करता है। जिसका कम्युनिकेशन का खर्चा खट्टा है और इसका सीधा लाभ उपभोक्ताओं को प्रदान होती है।

साथ ही इन नोड्स के अलावा, जीएसएम और टीडीएमए नेटवर्क के पास जीपीआरएस ट्रैफिक से निपटने के लिए कई अतिरिक्त अपग्रेड भी होते हैं। पैकेट नियंत्रण इकाइयों को जोड़ा जाना है और गतिशीलता प्रबंधन, एयर इंटरफेस और सुरक्षा उन्नयन का प्रदर्शन किया जाता है। क्योंकि बुनियादी ढांचा मौजूदा जीएसएम या टीडीएमए अवसंरचना के साथ इंटरफेस करता है, प्रमुख विक्रेता एरिक्सन, नोकिया, मोटोरोला और अल्काटेल जैसे प्रमुख जीएसएम आपूर्तिकर्ता हैं।

GPRS Network

जीपीआरएस कोर नेटवर्क सामान्य पैकेट रेडियो सेवा (जीपीआरएस) का केंद्रीय हिस्सा है जो 2 जी, 3 जी और डब्ल्यूसीडीएमए मोबाइल नेटवर्क को आईपी पैकेटों को इंटरनेट जैसे बाहरी नेटवर्क तक संपर्क स्थापना में मदद देता है। जीपीआरएस प्रणाली जीएसएम GSM नेटवर्क स्विचिंग सबसिस्टम का एक मिला जुला हिस्सा है। नेटवर्क जीएसएम और डब्ल्यूसीडीएमए नेटवर्क में इंटरनेट प्रोटोकॉल पैकेट सेवाओं के लिए स्पीड प्रदान, सत्र प्रबंधन और डाटा ट्रांसपोर्टेशन प्रदान करता है। कोर नेटवर्क बिलिंग और वैध अवरोधन जैसे अन्य जिम्मेदारियों के लिए भी सहायता प्रदान करता है। यूएस डी-एएमपीएस टीडीएमए प्रणाली में पैकेट रेडियो सेवाओं का समर्थन करने के लिए एक स्तर पर यह भी प्रस्तावित किया गया था, हालांकि आज के तारीख में, व्यवहार में, इन सभी नेटवर्क को जीएसएम में बदल दिया गया है, इसलिए यह विकल्प अप्रासंगिक एक हद्द तक हो गया है।

GPRS architecture

जीपीआरएस आर्किटेक्चर जीएसएम नेटवर्क की तरह ही हर उस प्रक्रिया पर काम करता है, लेकिन, इसमें अतिरिक्त इकाइयां मौजूद होते हैं जो पैकेट डेटा ट्रांसमिशन की प्रक्रिया कायम रखने में मदद देती हैं। यह डेटा नेटवर्क 9.6-171 kbps की दर से पैकेट डेटा परिवहन प्रदान करने वाली दूसरी पीढ़ी के जीएसएम नेटवर्क को ओवरलैप भी करता है। पैकेट डेटा परिवहन के साथ-साथ जीएसएम नेटवर्क कई उपयोगकर्ताओं को समान रूप से समान एयर इंटरफेस संसाधनों को साझा करने के लिए समायोजित करता है।

Conclusion

तो आज के इस आर्टिकल में हम लोगों ने जाना GPRS क्या है, फुल फॉर्म क्या है, काम कैसे करता है, इसका सिस्टम नेटवर्क कैसा है और इसका भविस्य क्या है।

About The Author

श्रीकांत पाढ़ी

नमस्कार, मैं इस साइट का फाउंडर, एडमिन और ऑथर हूँ। मैं इलेक्ट्रॉनिक्स और टेलीकम्यूनिकेशन इंजीनियरिंग में B.Tech डिग्री से ग्रेजुएट हूँ और मैं एक सेल्फ एम्प्लॉयड हूँ। मैं ब्लॉग्गिंग, यूट्यूब, वीडियो एडिटिंग, VFX, वेब डेवलप, एप्प डेवलप और स्क्रीनराइटिंग करता हूँ। मुझे ज्ञान बाँटना पसंद है । मैं हिंदी और इंग्लिश में आर्टिकल लिखता हूँ।

कैसे संपर्क करें?

निचे दिए गए लिंक पर संपर्क कर सकते हैं। (Follow Me!)