ब्लॉगिंग कैसे करते हैं How to blog in Hindi Complete guide

By:

ब्लॉग एक बेहतर विकल्प हैं इंटरनेट से रूपए कमाने के लिए परन्तु सही समझ ना हो तो ये नुक्सान भी करा सकते हैं। इस आर्टिकल में आप जानेंगे ब्लॉगिंग करते कैसे हैं।

ब्लॉगिंग कैसे करते हैं How to blog in Hindi Complete guide

ब्लॉग एक बेहतर विकल्प हैं इंटरनेट से रूपए कमाने के लिए परन्तु सही समझ ना हो तो ये नुक्सान भी करा सकते हैं। इस आर्टिकल में आप जानेंगे ब्लॉगिंग करते कैसे हैं।

ब्लॉग तैयार कैसे करें?

How to blog - ब्लॉग के लिए एक वेबसाइट चाहिए होती है। और एक वेबसाइट एक लिए निम्न लिखित दो चीज़ों की आवस्यकता रहती है।

१. डोमेन नाम

२. होस्टिंग

डोमेन नाम

आप जो इस वेबसाइट को पढ़ रहे हैं, इस वेबसाइट का डोमेन नाम हैं gyanol.in और इस नाम को मैंने पंजीकृत किया हुआ है। अगर आप भी ब्लॉग करना चाहते हैं तो आपको एक डोमेन नाम तय करना होगा और फिर उसका पंजीकृत करना होगा।

डोमेन नाम का पंजीकृत godaddy.com, hostgator.in, hostinger.in, bigrocks.in इत्यादि कंपनी कराती हैं और ये पंजीकृत सर्बनिम्न एक साल के लिए होता है।

ये पंजीकृत की सालाना फी १०० रु से लेकर १५०० या फिर उससे अधिक हो सकता है।

और हाँ गूगल ब्लागस्पाट पर डोमेन नाम पंजीकृत करना निशुल्क है।

होस्टिंग

कोई भी वेबसाइट हो उसके सारे फाइल एक स्वंतंत्र जगह पर रहती है जिसको इंटरनेट के जरिये प्राप्त किया जाता है। उसी खाश जगह को होस्टिंग कहते हैं। बहुत सारे कंपनी हैं जो होस्टिंग सर्विस दे रखे हैं। आप जो ये वेबसाइट देख रहे हैं इसके भी सारे फाइल्स एक होस्टिंग पर उपलब्ध हैं।

होस्टिंग का किराया कितना रहता है?

होस्टिंग का किराया प्रति माह १०० रु से ले कर १०००० या उससे भी अधिक होता है। ये निर्भर करता है कौनसे कंपनी की कौनसी होस्टिंग आपने लिया है।

होस्टिंग क्या है?

होस्टिंग को समझने के लिए ऐसे समझे जैसे एक बाहन हो। एक जगह से दूसरी जगह जाने के लिए हमारे पास बस, कार का विकल्प है। वैसे ही होस्टिंग है।

वैसे तो होस्टिंग ४ प्रकार के होते हैं:

१. शेयर्ड होस्टिंग

२. vps होस्टिंग

३. क्लाउड होस्टिंग

४. डेडिकेटेड होस्टिंग

शेयर्ड होस्टिंग

शेयर्ड होस्टिंग एक सरकारी बस की तरह है। इस में कभी कभी १० से भी कम लोग यात्रा करते हैं तो कभी कभी १५० से भी ज्यादा लोग सफर करते हैं। इसके बावजूद के उसमे सिर्फ ६० सीटें होती हैं। शेयर्ड होस्टिंग भी ऐसा ही है। एक ही होस्टिंग को बहुत सारे वेबसाइट के मालिक इस्तेमाल कर रहे होते हैं। भले ही होस्टिंग की कैपेसिटी ५०० हो २००० से भी ज्यादा वेबसाइट इस पर रहते हैं। इसलिए शेयर्ड होस्टिंग पर जो वेबसाइट होते हैं वो कभी कभी डाउनटाइम का सामना करते हैं। जिससे वेबसाइट उपलब्ध नहीं रहते।

शेयर्ड होस्टिंग उन ब्लॉगर के लिए ठीक है जो नए नए ब्लॉगिंग की शुरुआत कर रहे हैं। लेकिन जैसे ही ट्रैफिक बढ़ेगा आपको बेहतर होस्टिंग की तरफ बढ़ना होगा। शेयर्ड होस्टिंग की कीमत प्रति माह ५० रूपए से ले कर १५०० रूपए तक हो सकता है।

vps होस्टिंग

कल्पना करिये सरकारी बस परन्तु रिजर्व्ड वाली। अगर बस में ५० सीट हैं तो सिर्फ ५० यात्री ही सफर कर सकते हैं। vps होस्टिंग कुछ इस प्रकार का है। ये शेयर्ड होस्टिंग से बेहतर होता है और ज्यादा से ज्यादा ट्रैफिक हैंडल कर सकते हैं। इस में डाउनटाइम की झंझट नहीं होती।

vps होस्टिंग शेयर्ड होस्टिंग से मेहेंगा रहता है। इसका किराया प्रति माह १५०० रूपए से लेकर ५००० या उससे अधिक होता है।

क्लाउड होस्टिंग

क्लाउड होस्टिंग भी vps होस्टिंग की तरह है बस इसमें फरक इतना है के इस होस्टिंग में क्लाउड होस्टिंग की तकनीक इस्तेमाल होता है। क्लाउड होस्टिंग का किराया प्रति माह १००० रूपए से ले कर ५००० रूपए तक या उससे अधिक भी हो सकता है।

डेडिकेटेड होस्टिंग

डेडिकेटेड होस्टिंग एक ब्यक्तिगत कार की तरह है। एक कार और आप उसके मालिक। डेडिकेटेड होस्टिंग मेहेंगा रहता हैं। इसका किराया प्रति माह १०००० रूपए से ले कर ३०००० रूपए या फिर उससे अधिक हो सकता है। डेडिकेटेड होस्टिंग को चलाने के लिए सर्वर संबधित ज्ञान होना आवश्यक है।


ब्लॉग वेबसाइट कैसे तैयार करें?

अब तक आपने समझ लिए होंगे के ब्लॉग वेबसाइट बनाने के लिए दो चीज़ों की जरुरत पड़ती हैं डोमेन नाम और होस्टिंग। जब दोनों आपने ले लिए उसके बाद बारी आती हैं वेबसाइट बनाने की। अगर आप वेबसाइट कैसे बनाते हैं नहीं जानते हैं तो घबराइए मत वर्डप्रेस सॉफ्टवेयर जो की निशुल्क उपलब्ध है उसके इस्तेमाल से बगैर कोडन जाने आप वेबसाइट तैयार कर सकते हैं। और अछि बात ये है के बहुत सारे होस्टिंग सर्विस प्रोवाइडर वर्डप्रेस इंस्टालेशन का विकल्प दे रखें हैं। एक क्लिक और आपका वेबसाइट तैयार।

एक बार जब आपका वेबसाइट तैयार होगया तो फिर उसके बाद जैसे ईमेल लिखते हैं वैसे ही आर्टिकल लिखें और पब्लिश करें।

क्या डोमेन नाम रजिस्ट्रेशन और होस्टिंग फ्री में उपलब्ध हैं ?

जी हाँ बहतु सारे कंपनी ऐसे भी हैं जो डोमेन नाम रजिस्ट्रेशन पहले साल फ्री में दिलाते हैं। और कुछ कंपनी ऐसी भी हैं जो होस्टिंग भी कुछ महीने के लिए फ्री में रखें हैं।

और हाँ अगर आप गूगल की ब्लागस्पाट इस्तेमाल करते हैं तो इसमें आपको डोमेन नाम रजिस्ट्रेशन और होस्टिंग लाइफ टाइम के लिए फ्री में मिलता है। और इस पर आप रेगुलर ब्लॉग आर्टिकल लिख कर धन प्राप्त कर सकते हैं।

Conclusion

उम्मीद है आप इस आर्टिकल से समझे होंगे के ब्लॉग वेबसाइट कैसे तैयार करते हैं और ब्लॉग कैसे करते हैं ?

Previous Article


Wo Ham Na The Hindi Song Lyrics

Hindi Song Lyrics Wo Ham Na The

Next Article


Ashleigh Aston Moore Age Date Of Birth Weight Birth Place Net Worth Biography in Hindi

इस आर्टिकल में जानिए Ashleigh Aston Moore के जन्म तारीख, उ...


Related Posts


ब्लागिंग क्या है? What is blogging in Hindi?

ब्लागिंग क्या है? What is blogging in Hindi?

आज कल जो ब्यक्ति यूट्यूब और इंटरनेट पर एक्टिव हैं उन्हें ब्लॉगिंग शब्द से परिचय जरूर है। और थोड़ी बहु...

ब्लॉगिंग कैसे करते हैं How to blog in Hindi Complete guide

ब्लॉगिंग कैसे करते हैं How to blog in Hindi Complete guide

ब्लॉग एक बेहतर विकल्प हैं इंटरनेट से रूपए कमाने के लिए परन्तु सही समझ ना हो तो ये नुक्सान भी करा सकत...

Search Engine Optimisation: सफल ब्लॉगर बनने की चाबी

Search Engine Optimisation: सफल ब्लॉगर बनने की चाबी

सफल ब्लॉगिंग करियर के लिए जरुरी हैं आर्गेनिक ट्रैफिक प्राप्त करना। और ये संभव है सिर्फ और सिर्फ सर्च...

Off Page SEO kya hai aur kaise kare

Off Page SEO kya hai aur kaise kare

सफल ब्लॉगर बनने के लिए सर्च इंजन optimisation जरुरी है। इससे फायदा ये होता है के गूगल से मुफ्त में भ...