अभ्रक क्या है What is Abhrak (Mica) in Hindi?

अभ्रक क्या है What is Abhrak (Mica) in Hindi?

अभ्रक आपने नाम जरूर सुना होगा। इस आर्टिकल में जानेंगे अभ्रक है क्या और इसका उपयोग होता कैसे हैं ?

Table of Contents

अभ्रक Mica

What is Mica (अभ्रक क्या है) ? - अभ्रक एक प्रकार का खनिज है। इसके उपयोग बहुत सारे खेत्रो में होते हैं। ये चट्टानों में खंडो के रूप में पाया जाता है। वैसे ये एक जटिल सिलिकेट यौगिक है। इसमें पोटेशियम, सोडियम और लिथियम जैसे क्षारीय पदार्थ भी मिलते हैं।

अभ्रक के प्रकार Types of Mica

अभ्रक को मूल रूप से भागों में भाग किया गया है -(1 ) मस्कोवाइट वर्ग (2 ) बायोटाइट वर्ग।

पूर्वोक्त दोनों प्रकार के खनिजों के गुण लगभग एक से ही हैं। रासायनिक संगठन में थोड़ा सा भेद होने के कारण इनके रंग में अंतर पाया जाता है। श्वेताभ्रक को पोटैशियम अभ्रक तथा कृष्णाभ्रक को मैगनीशियम और लौह अभ्रक कहते हैं। श्वेताभ्रक में जल की मात्रा ४ से ६ प्रतिशत तक विद्यमान रहती है।अभ्रक वर्ग के सभी खनिज मोनोक्लिनिक समुदाय में स्फटीय होते हैं। अधिकतर ये परतदार आकृति में पाए जाते हैं। श्वोताभ्रक की परतें रंगहीन, अथवा हल्के कत्थई या हरे रंग की होती हैं। लोहे की विद्यमानता के कारण कृष्णाभ्रक का रंग कालापन लिए होता है। इन खनिजों की सतह चिकनी तथा मोती के समान चमकदार होती है। एक दिशा में इन खनिजों की पर्तों को बड़ी सुविधा से अलग किया जा सकता है। ये परतें बहुत नम्य (फ़्लेक्सिबुल) तथा प्रत्यस्थ (इलैस्टिक) होती हैं। इसका अनुमान इसी से लगाया जा सकता है कि यदि हम एक इंच के हजारवें भाग के बराबर मोटाई की परत लें और उसे एक चौथाई इंच व्यास के बेलन के आकार में मोड़ डालें तो अपनी प्रत्यास्थता के कारण वह पुन: फैलकर समतल हो जाएगी। इन खनिजों की कठोरता २ से ३ तक है।

Related Articles( Also Read )

Radio ka avishkar kisne kiya, prakar, mahatva, labh aur hani ke bare mein jankari

GPRS full form tracker architecture module network matlab in Hindi

ABVP क्या है ? What is ABVP in Hindi?

थोड़े से दबाब से यह नाखून से खुरचे जा सकते हैं। इनका आपेक्षिक घनत्व २.७ से ३.१ तक होता है।अभ्रक वर्ग के खनिजों पर अम्लों का कोई प्रभाव नहीं पड़ता। अभ्रक ऐल्यूमीनियम तथा पोटेसियम के जटिल सिलिकेट हैं, जिनमें विभिझ मात्रा में मैगनीशियम तथा लौह एवं सोडियम, कैल्सियम, लीथियम, टाइटेनियम, क्रोमियम तथा अन्य तत्व भी प्राय: विद्यमान रहते हैं। मस्कोवाइट सर्वाधिक महत्त्वपूर्ण अभ्रक है। यद्यपि मस्कोवाइट सर्वाधिक सामान्य शिलानिर्माता (रॉक-फॉर्मिग) खनिज है तथापि इसके निक्षेप, जिनसे उपयोगी अभ्रक प्राप्त होता है, केवल भारत तथा ब्राज़ील के कुछ सीमित क्षेत्रों में पिगमेटाइट पट्टिकाओं (वेंस) में ही विद्यमान हैं। संपूर्ण संसार की आवश्यकता का ८० प्रतिशत अभ्रक भारत में ही मिलता है।

उपयोगिता Usage

यद्यपि भारत में अभ्रक प्रचुर मात्रा में पाया जाता है, तथापि इसका अधिकांश कच्चे माल के रूप में विदेशों को भेज दिया जाता है। भारतीय उद्योग में इसकी खपत प्राय: नहीं के बराबर है।व्यापार की दृष्टि से अभ्रक के दो खनिज श्वेताभ्रक और फ़्लोगोपाइट अधिक महत्त्वपूर्ण हैं। अभ्रक का प्रयोग बड़ी-बड़ी चादरों के रूप में तथा छोटे-छोटे या चूर्ण के रूप में होता है। बड़ी-बड़ी परतोंवाला अभ्रक मुख्यतया विद्युत्‌ उद्योग में काम आता है। विद्युत्‌ का असंवाहक होने के कारण इसका उपयोग कंडेंसर, कम्यूटेटर, टेलीफोन, डायनेमो आदि के काम में होता है। पारदर्शक तथा तापरोधक होने के कारण यह लैंप की चिमनी, स्टोव, भट्ठियों आदि में प्रयुक्त होता है। अभ्रक के छोटे-छोटे टुकड़ों को चिपकाकर माइकानाइट बनाया जाता है। अभ्रक के छोटे-छोटे टुकड़े रबड़ उद्योग में, रंग बनाने में, मशीनों में चिकनाई देने के लिए तथा मानपत्रों आदि की सजावट के काम आते हैं।अभ्रक ऊष्मा का सुचालक तथा विद्युत्‌ का कुचालक है। यही गुण इसके व्यापारिक महत्व का आधार है। पवनमापी यंत्र तथा उत्तम कोटि के दर्पण अभ्रक की सहायता से बनाए जाते हैं। बायलर के जैकेट के आवरण बनाने में भी इसका उपयोग होता है। विद्युत्‌यंत्र तथा उपकरण, जैसे डायनमो, आर्मेचर, हीटर, टेलीफोन के डायल बनाने में भी इसका उपयोग होता है। रेडियो, वायुयान तथा मोटर इंजन के पुर्जों में भी अभ्रक का उपयोग बढ़ता जा रहा है। इससे खाद भी बनाई जाती है।अभ्रक पारदर्शक होता है। साथ ही ताप के आकस्मिक उतार-चढ़ाव का भी असपर अधिक असर नहीं होता है। इसलिए यह भट्टियों में अग्निनिरोधक पलस्तर करने के काम आता है। रंगहीन पारदर्शक कागज, विभिझ प्रकार के खिलौने, रंगमंच के परदों की सजावट तथा चमकीले पेंट कलर भी अभ्रक की सहायता से बनाए जाते हैं।आयुर्वेद चिकित्सा में अभ्रक भस्म काफी प्रचलित औषधि है जो क्षय, प्रमेह, पथरी आदि रोगों के निदान में प्रयुक्त होती है।

About The Author

श्रीकांत पाढ़ी

नमस्कार, मैं इस साइट का फाउंडर, एडमिन और ऑथर हूँ। मैं इलेक्ट्रॉनिक्स और टेलीकम्यूनिकेशन इंजीनियरिंग में B.Tech डिग्री से ग्रेजुएट हूँ और मैं एक सेल्फ एम्प्लॉयड हूँ। मैं ब्लॉग्गिंग, यूट्यूब, वीडियो एडिटिंग, VFX, वेब डेवलप, एप्प डेवलप और स्क्रीनराइटिंग करता हूँ। मुझे ज्ञान बाँटना पसंद है । मैं हिंदी और इंग्लिश में आर्टिकल लिखता हूँ।

कैसे संपर्क करें?

निचे दिए गए लिंक पर संपर्क कर सकते हैं। (Follow Me!)